Tuesday, July 7, 2009

गोवा -3 अंजुना बीच

नारियल के वृक्षों से घिरे इस बीच की रेत लाल रंग की है । इस बीच को पहले हिप्पियों का बीच कहा जाता था । इस बीच की मिटटी सूर्य की रोशनी में अनुपम छटा बिखेरती है शायद इसीलिए anjuna beach को goa के सुन्दरतम बीचों में गिना जाता है । अगर आप मोलभाव में अच्छे मैं और आपको मोलभाव करके खरीदारी में मजा आता है तो यहाँ लगाने वाला बाजार भी आपके लिए एक आकर्षण है । इस बाजार में स्वीमिंग कास्ट्यूम, स्पोर्ट के सामान , कैमरे आदि के आलावा और भी बहुत कुछ सामान मोलभाव करके कम दाम में ख़रीदा जा सकता है । इस बाजार में खरीदारी का अलग ही मजा है । इस बीच पर चाँदनी रातों में हिप्पियों की पार्टियाँ होती हैं जो बड़ी संख्या में पर्यटकों को आकर्षित कराती हैं ।

यह भी देखें -
गोवा - 1
गोवा - 2 कलंगूट बीच

6 comments:

Udan Tashtari July 7, 2009 at 7:21 PM  

आभार इस बीच की जानकारी के लिए.

P.N. Subramanian July 7, 2009 at 8:00 PM  

हाँ खरीददारी के लिए यह अच्छी जगह है. चित्र सुन्दर लग रहा है. आभार

अल्पना वर्मा July 7, 2009 at 8:51 PM  

अनिल जी,हाल ही में ताऊ पत्रिका के लिए गोवा पर लिखने के लिए...गोवा के बारे में बहुत पढ़ा है.वहां जाना नहीं हो पाया अभी तक.
आप ने जो अब तक जो भी जानकारी दी है बहुत ही अच्छी लगी..धन्यवाद.
आप का यह ब्लॉग बहुत अच्छा प्रयास है.

काजल कुमार Kajal Kumar July 7, 2009 at 9:56 PM  

गोवा वास्तव में ही भारत की सबसे खूबसूरत जगहों में से एक है.

शरद कोकास July 7, 2009 at 11:48 PM  

अंजुना बीच और कलंगूट बीच पर कवि नरेश चन्द्रकर ने अपने कविता संग्रह "बहुत नर्म चादर थी जल से बुनी " मे बहुत अच्छी कविताये लिखी है कुछ दिन बाद मै अपने ब्लोग पर दूंगा

‘नज़र’ July 8, 2009 at 9:42 AM  

बहुत अच्छी जानकारी

---
लाजवाब कर देने वाली रचना है,

---
नये प्रकार के ब्लैक होल की खोज संभावित

Blog Widget by LinkWithin

  © Blogger templates Psi by Ourblogtemplates.com 2008

Back to TOP