Monday, July 13, 2009

गोवा - 6 वागाटोर बीच

यह बीच भी goa के सुंदर बीचों में से एक है . यहाँ पानी अधिक गहरा नहीं है अतः जो लोग तेरना नही जानते वो यहाँ नहा सकते हैं एंव लहरों का आनन्द ले सकते हैं । यहाँ का तट पत्थरों से घिरा हुआ है इसीलिए पत्थरों से टकराती लहरें पास खड़े पर्यटकों को भिगो कर रोमांचित कर देती हैं ।

यह भी देखें -
गोवा - 1
गोवा - कोलंगूट बीच
गोवा - 3 अंजुना बीच

गोवा - डोना पाउला बीच
गोवा - 5 बागा बीच

17 comments:

दिगम्बर नासवा July 13, 2009 at 7:09 PM  

Gazab ka chitr lagaate hain aap apni post par....... Gova ka beach bahoot hi sundar lag rahaa hai

Udan Tashtari July 13, 2009 at 11:01 PM  

सुन्दर!! अनुपम!!

Science Bloggers Association July 14, 2009 at 6:36 PM  

देख के मन मेरा, ललच ललच जाए।

-Zakir Ali ‘Rajnish’
{ Secretary-TSALIIM & SBAI }

mehek July 16, 2009 at 2:06 AM  

waah bahut hi sunder tasver,nisarg ki khubsurati yahi hai.

श्याम कोरी 'उदय' July 16, 2009 at 4:51 AM  

... सुन्दर, अतिसुन्दर ब्लाग !!!!

Babli July 16, 2009 at 4:24 PM  

मैं चार दफा मुंबई जा चुकी हूँ पर गोवा अब तक नही गई! बहुत ही सुंदर तस्वीर के साथ आपने विस्तार किया है अब तो गोवा जाना ही पड़ेगा!

अमिताभ श्रीवास्तव July 16, 2009 at 6:26 PM  

bharat yatra ke naam se jo karya aapne shuru kiya he vo nishchit roop se srahniya he/ bharat yatra karna meri ekmaatr ichha he, aour yadi mujhe is baare me padhhne ko miltaa he to sone pe suhaagaa/ aapse anurodh he ki sirf bade yaa mahanagr yaa fir vikhyaat rahe shahro ke alaavaa bhi bharat ko lekhbadhdh karenge to achha rahega.
dhnyavaad

anil July 16, 2009 at 6:31 PM  

आप सभी का हार्दिक आभार ! अमिताभ जी में जरुर कोशिश करूँगा संपूर्ण भारत की जानकारी देने की धन्यवाद .

Nirmla Kapila July 16, 2009 at 6:38 PM  

वैसे तो शायद भारत दर्शन ना कर पायें मगर आपके ब्लाग से जरूर भारत को देख लेंगे आभार्

शरद कोकास July 17, 2009 at 12:53 AM  

मेरे मित्र नरेश चन्द्रकर गोवा मे रह चुके है उनके पत्रों मे जो गोवा है उसे यहाँ तस्वीर मे देखा अच्छा लगा कलंगूट बीच पर उनकी एक प्रसिद्ध कविता भी है कुछ दिन बाद ब्लोग पर दूंगा आपकी लिंक के साथ्

राज भाटिय़ा July 17, 2009 at 1:23 AM  

भाई हमारे लिये बहुत सुंदर जानकारी है धन्यवाद

adwet July 17, 2009 at 11:00 AM  

बहुत ही सुंदर, बहुत अच्छी जानकारियां जुटाई हैं आपने।

Ravi Srivastava July 17, 2009 at 12:35 PM  

नमस्कार!
आज मुझे आप का ब्लॉग देखने का सुअवसर मिला।
वाकई आपने बहुत अच्छा लिखा है। आप की रचनाएँ, स्टाइल अन्य सबसे थोड़ा हट के है.... बधाई स्वीकारें।
आप मेरे ब्लॉग पर आए, शुक्रिया.
आप के अमूल्य सुझावों और टिप्पणियों का 'मेरी पत्रिका' में स्वागत है...

Link : www.meripatrika.co.cc

…Ravi Srivastava

hem pandey July 19, 2009 at 5:23 PM  

गोआ के सुन्दर बीच की सैर कराने हेतु आभार.

KK Yadav July 22, 2009 at 5:25 PM  

Ham bhi ek bar Goa gaye hain..badi ramniy jagah hai, Yahan Goa ke bare men padhkar achha laga.

मेरे ब्लॉग "शब्द सृजन की ओर" पर पढें-"तिरंगे की 62वीं वर्षगांठ ...विजयी विश्व तिरंगा प्यारा"

Blog Widget by LinkWithin

  © Blogger templates Psi by Ourblogtemplates.com 2008

Back to TOP