Sunday, July 5, 2009

गोवा - २ कलंगूट बीच



यह बीच गोवा के बीचों की महारानी कहलाता है और क्यों कहलाता है ये तो वहां जाने पर ही पता चलता है । यह बीच पणजी से लगभग 45 किलोमीटर की दूरी पर है। दूर तक फैले इस सुंदर तट पर हर समय बड़ी संख्या में सेलानी मोजूद रहते हैं । पूरे योवन के साथ उठती यहाँ की लुभावनी लहरें सभी को सम्मोहित कर लेती हैं । यहाँ शापिंग, पैरा सेलिंग, वाटर स्कीइंग , विंड सर्फिंग आदि एंजाय कर सकते हैं वैसे सेलानी यहाँ तैराकी का आंनद भी लेते है ।

यह भी देखें -
गोवा -1

2 comments:

अर्कजेश *Arkjesh* July 7, 2009 at 3:08 PM  

अपने यात्रा अनुभवों को अपने ब्लॉग पर बान्टकर आप उन स्थानों के बारे में जानकारी देने का बढिया काम कर रहे हैम, जिन्हें आपने स्वयं देखा है । स्थानों के साथ-साथ पहुंच मार्गों की भी जानकारी दें । कुछ विस्तार से बताने की कोशिश करें । मैंने आपका ब्लॉग अपने ब्लॉग रोल में शामिल कर लिया है ।

pukhraaj July 16, 2009 at 2:52 PM  

गोवा सचमुच एक निहायत सुंदर जगह है ..मैने देखा है गोवा...अगर आपके होटेल की खिड़की समुंदर की तरफ खुलती हो जहाँ लहरे आपको आकर्षित करती हों तो बालकनी मे बैठने का भी उतना ही आनंद आता है जितना समुंदर के किनारे ...भारत मे जीतने सुंदर पहाड़ हैं उतने ही सुंदर समुंदर भी हैं ....यादें ताज़ा हो गयीं ...धन्यवाद

Blog Widget by LinkWithin

  © Blogger templates Psi by Ourblogtemplates.com 2008

Back to TOP